Sunday, 27 November 2016

EGO AND SELF ESTEEM

"The biggest challenge for all of us, not just politicians or bureaucrats, is that we, Indians, have the highest ego per unit of achievement". Comment on this statement and bring out the difference between ego and self esteem.



Why is that Indians who are highly talented, lag behind- is it talent or attitude; why is that Indians are hobbesians, why is that most of the cities have a culture of snobbery, why is that we waste our time more on pulling down others, envying them, being jealous of them rather than focussing on ourself, improving on ourself; why is that we take most of our decisions on the basis of perception, rather than on reality, why is that we prefer to bribe our priests and our gods too, rather than dispensing the same amount to the poor.... The list of such questions may not be endless, but it does cast aspersions on our attitude, our thinking, our interpretation of events and processes.
'The biggest hurdle that one comes across in India is almost everyone happens to know what you will say, what you will think, and how is it that you are going to act. The toughest hurdle is if they say someone is already doing what you have thought of . There isn't much to do then for an innovator.
This happens because we nurse our ego more than our self esteem,
Now the issue is-What is the impact of ego on attitude, and how is it different from self esteem.
Ego blinkers your vision, constricts your thinking, it makes you narrow minded, stops your adaptability (Its not the best species that survive, but the most adaptable), prevents your observation-power, blurs your communication, stops your learning process, inhibits your innovative ability and empties your social capital. In ego, you always try to make the others feel down, you look them down, prevent them from rising, and developing, by obstructing them, and then in some extreme cases, you always try to degrade them
Self esteem is different from ego.
In self esteem you always improve upon yourself, always make yourself better, you only compete with yourself so that you are improved to an extent that you are head and shoulders above others. In self esteem, you improve yourself to your satisfaction, beyond anyone's reach without imitation. In ego you do not know yourself, in self esteem you have a higher degree of self understanding. Self esteem improves your ability to know yourself.
In ego you try to change others, obviously this is strength, in self esteem you control yourself, you overpower yourself and that is absolute power.

Tuesday, 22 November 2016

WITH SRI RAMESH SIPPY, DIRECTOR OF SHOLAY, INAUGURATED INTERNATIONAL FILM FESTIVAL AT GOA...


*HINDUISM SEEN FROM WESTERN PERSPECTIVE* - by Francois Gautier

1) Believe in God ! - Aastik - Accepted
2) Don't believe in God ! - You're accepted as Nastik
3) You want to worship idols - You are a murti pujak.
4) You dont want to worship idols - no problem. You can focus on Nirguna Brahman.
5) You want to criticise something in our religion. Come forward. We are logical. Nyaya, Tarka etc. are core Hindu schools.
6) You want to accept beliefs as it is. Most welcome. Please go ahead with it.
7) You want to start your journey by reading Bhagvad Gita - Sure !
8) You want to start your journey by reading Upanishads - Go ahead
9) You want to start your journey by reading Purana - Be my guest.
10) You just don't like reading Puranas or other books. No problem. Go with Bhakti tradition. (devotion)
11) You don't like idea of Bhakti ! No problem. Do your Karma. Be a karmayogi.
12) You want to enjoy life. Very good. No problem at all. This is Charvaka Philosophy.
13) You want to abstain from all the enjoyment of life & find God - jai ho ! Be a Sadhu, an ascetic !
14) You don't like the concept of God. You believe in Nature only - Welcome. (Trees are friends and Prakriti or nature is worthy of worship).
15) You believe in one God or Supreme Energy. Follow the Advaita philosophy.
16) You want a Guru. Go ahead. Do seva & Receive gyaan.
17) You don't want a Guru! Help yourself ! Meditate, Study !
18) You believe in Female energy ! Worship Shakti.
19) You believe that every human being is equal. Vasudhaiva kutumbakam" (the world is a family)
20) You don't have time to celebrate the festival! Don't worry. One more festival is coming! There are multiple festivals every single day of the year.
21) You are a working person. Don't have time for religion. Its okay. You will still be a Hindu.
22) You like to go to temples. Devotion is loved.
23) You don't like to go to temples - no problem. You are still a Hindu!
24) You know that Hinduism is a way of life, with considerable freedom.
25) You believe that everything has God in it. So you worship your mother, father, guru, tree, River, Prani-matra, Earth, Universe!
26) And If you don't believe that everything has GOD in it - No problems. Hinduism Respect your viewpoint.
27) "Sarve jana sukhino bhavantu " (May you all live happily) You represent this! You're free to choose, my dear Hindu!
This is exactly the essence of Hinduism, all inclusive. That is why it has withstood the test of time inspite of repeated onslaught both from within and outside, and assimilated every good aspects from everything. That is why it is eternal !!!
There is a saying in Rigveda, the first book ever known to mankind which depicts the Hinduism philosophy in a Nutshell -" Ano bhadrah Kratavo Yantu Vishwatah"- Let the knowledge come to us from every direction"

Thursday, 17 November 2016

CHILDREN LAERN WHAT THEY SEE.

INVALUABLE FOR YOU NOW TO KNOW WHY YOU ARE, AND
INVALUABLE FOR YOU WONT MAKE A MISTAKE LATER

Dr Arnold Toynbee, British Historian wrote

"It is already becoming clear that a chapter which had a Western beginning will have to have an Indian ending if it is not to end in the self-destruction of the human race. At this supremely dangerous moment in history, the only way of salvation for mankind is the Indian way."
INDIANS DO NOT REALISE THAT, IT TAKES A WESTERNER TO MAKE THEM REALISE IT SO, AND WE THINK INDIA CAN BE A SUPER POWER........

स्वामी​ विवेकानंद की आवाज़ सुनी है कभी?

यह एक नायब क्लिप है उनके वक्तय का, उनके भाषण का कितना ओजस्वी, कितना गंभीर कितना पवित्र

NEW MEANING OF LITERACY

NEW MEANING OF LITERACY
“The illiterate of the 21st century will not be those who cannot read and write, but those who cannot learn, unlearn, and relearn. ”

Friday, 11 November 2016

ये है देश के दो बड़े महान देशभक्तों की कहानी....विवरण जानिये.....

भगत सिंह के खिलाफ विरुद्ध गवाही देने वाले दो व्यक्ति कौन थे ?
जब दिल्ली में भगत सिंह पर अंग्रेजों की अदालत में असेंबली में बम फेंकने का मुकद्दमा चला तो...
👉 भगत सिंह और उनके साथी बटुकेश्वर दत्त के खिलाफ शोभा सिंह ने गवाही दी और दूसरा गवाह था शादी लाल !
👉 दोनों को वतन से की गई इस गद्दारी का इनाम भी मिला। दोनों को न सिर्फ सर की उपाधि दी गई बल्कि और भी कई दूसरे फायदे मिले।
👉 शोभा सिंह को दिल्ली में बेशुमार दौलत और करोड़ों के सरकारी निर्माण कार्यों के ठेके मिले आज कनौट प्लेस में सर शोभा सिंह स्कूल में कतार लगती है बच्चो को प्रवेश नहीं मिलता है जबकि
👉 शादी लाल को बागपत के नजदीक अपार संपत्ति मिली। आज भी श्यामली में शादी लाल के वंशजों के पास चीनी मिल और शराब कारखाना है।
👉 सर शादीलाल और सर शोभा सिंह, भारतीय जनता कि नजरों मे सदा घृणा के पात्र थे और अब तक हैं?
👉 लेकिन शादी लाल को गांव वालों का ऐसा तिरस्कार झेलना पड़ा कि उसके मरने पर किसी भी दुकानदार ने अपनी दुकान से कफन का कपड़ा तक नहीं दिया।
👉 शादी लाल के लड़के उसका कफ़न दिल्ली से खरीद कर लाए तब जाकर उसका अंतिम संस्कार हो पाया था।
👉शोभा सिंह खुशनसीब रहा। उसे और उसके पिता सुजान सिंह (जिसके नाम पर पंजाब में कोट सुजान सिंह गांव और दिल्ली में सुजान सिंह पार्क है) को राजधानी दिल्ली समेत देश के कई हिस्सों में हजारों एकड़ जमीन मिली और खूब पैसा भी।
👉 शोभा सिंह के बेटे खुशवंत सिंह ने शौकिया तौर पर पत्रकारिता शुरु कर दी और बड़ी-बड़ी हस्तियों से संबंध बनाना शुरु कर दिया।
👉सर शोभा सिंह के नाम से एक चैरिटबल ट्रस्ट भी बन गया जो अस्पतालों और दूसरी जगहों पर धर्मशालाएं आदि बनवाता तथा मैनेज करता है।
👉 आज दिल्ली के कनॉट प्लेस के पास बाराखंबा रोड पर जिस स्कूल को मॉडर्न स्कूल कहते हैं वह शोभा सिंह की जमीन पर ही है और उसे सर शोभा सिंह स्कूल के नाम से जाना जाता था।
👉 खुशवंत सिंह ने अपने संपर्कों का इस्तेमाल कर अपने पिता को एक देशभक्त दूरद्रष्टा और निर्माता साबित करने की भरसक कोशिश की।
👉 खुशवंत सिंह ने खुद को इतिहासकार भी साबित करने की भी कोशिश की और कई घटनाओं की अपने ढंग से व्याख्या भी की।
👉 खुशवंत सिंह ने भी माना है कि उसका पिता शोभा सिंह 8 अप्रैल 1929 को उस वक्त सेंट्रल असेंबली मे मौजूद था जहां भगत सिंह और उनके साथियों ने धुएं वाला बम फेंका था।
👉 बकौल खुशवंत सिह, बाद में शोभा सिंह ने यह गवाही दी, शोभा सिंह 1978 तक जिंदा रहा और दिल्ली की हर छोटे बड़े आयोजन में वह बाकायदा आमंत्रित अतिथि की हैसियत से जाता था।
👉 खुशवंत सिंह का ट्रस्ट हर साल सर शोभा सिंह मेमोरियल लेक्चर भी आयोजित करवाता है जिसमे बड़े-बड़े नेता और लेखक अपने विचार रखने आते हैं,
और...
👉 बिना शोभा सिंह की असलियत जाने (य़ा फिर जानबूझ कर अनजान बने) उसकी तस्वीर पर फूल माला चढ़ा आते हैं
👉आज़ादी के दीवानों क विरुद्ध और भी गवाह थे ।
1. शोभा सिंह
2. शादी राम
3. दिवान चन्द फ़ोर्गाट
4. जीवन लाल
5. नवीन जिंदल की बहन के पति का दादा
6. भूपेंद्र सिंह हुड्डा का दादा
👉दीवान चन्द फोर्गाट DLF कम्पनी का Founder था इसने अपनी पहली कालोनी रोहतक में काटी थी
👉इसकी इकलौती बेटी थी जो कि K.P.Singh को ब्याही और वो मालिक बन गया DLF का ।
👉अब K.P.Singh की भी इकलौती बेटी है जो कि कांग्रेस के नेता और गुज्जर से गुलाम नबी आज़ाद के बेटे सज्जाद नबी आज़ाद के साथ ब्याही गई है । अब वह DLF का मालिक बनेगा ।
👉जीवन लाल मशहूर एटलस साईकल कम्पनी का मालिक था।
अब सार समझिये
भारत में कभी भी अंत अंजाम और लक्ष्य प्राप्ति नहीं देखा जाता था तो देखा जाता था की उस लक्ष्य को किसी ने कैसे प्राप्त किया कैसे पहुँच उस अंजाम को अंजाम कैसे दिया गया न की वह अंजाम दे पाया।
ऐसे ही भारत और पाकिस्तान के लोग हुआ करते थे.
भररत और पाकिस्तान के लोगों में मूल्य था संस्कार था चरित्र और उसे निभाने की मर्यादा थी. अपार शक्ति थी की वह मुसीबतों को झेल कर उससे बाहर निकल सकें। वो कमज़ोर बुज़दिल नहीं थे की अपना समय और स्वार्थ देख कर चरित्र बदल देते अपनी मर्यादा खो देते झूठ और फरेब का सहारा ले लेते
बर्तानवी शासन ने भारतीयों की मति भ्रष्ट कर दी.
अब लोग यह देखते हैं की व्यक्ति अंजाम पर पहुंचा या नहीं लक्ष्य प्राप्त किया या नहीं यह नहीं की वह लक्ष्य पर कैसे पहुंचा?
उसका रास्ता चोरी का था डकैती का था झूठ का था फरेब का था दगा का था या धोखा का यह अब मायने रखना बंद कर दिया
भारत में लोग राणा प्रताप को आज इसीसलिए पूजते हैं क्योंकि राणा प्रताप की विधि, उनका रास्ता सच्चा था इतनी धोखे मिले उन्हें , उनका चरित्र ज़रा भी नहीं डगमगाया इतनी समस्याएं आईं पर वो ज़रा भी विचलित नहीं हुए. तभी तो राणा प्रताप की मूर्तियां सभी स्थानों पर मिलती हैं अकबर की नहीं।
अकबर की लक्ष्य प्राप्ति में धोखा, दाग और फरेब था अहंकार था. वह व्यावहारिक था शायद
पर राणा प्रताप हार कर भी जीत गए अकबर जीत कर भी हार गए।
आज भी हमारी मानसिकता ऐसी है जैसे की लक्ष्य ही सब कुछ हो चाहे उसके लिए कितना भी नीचे क्यों न गिरना पड़े कुछ भी क्यों न करना पड़े
चोरी से पैसे कमाए हुए व्यक्ति को "मान सम्मान" से देखा जाता है और पर जिसने अपनी अस्मिता अक्षुण्ण रखी जिस व्यक्ति ने अपने चरित्र को मिसाल बनाया वह अब ग्लैमरस नहीं रह गया
चरित्रहीनता से पाया लक्ष्य ग्लमौरौस है, फरेब फैशन है धोखा देना जीवन की रीत है चोरी करना स्मार्टनेस है
मान सम्मान में अब वह ग्लैमर नहीं जो चोरी से कमाए हुए पैसे में है, जो "स्मार्ट" बनकर लोगों को धोखा देने में है
क्या यही हम भारतीयों का चरित्र है ? क्या यही हमारी थाती है? क्या यही हमारी पहचान है? क्या यही हमारी निधि है? क्या यही हमारी अस्मिता है?

Wednesday, 9 November 2016

WHY DONALD TRUMP WON?

1. THE AMERICAN ELECTIONS SHOW THAT GLOBALISATION HAS REACHED ITS PEAK, AND THAT GLOBALISATION WILL NO MORE IMPACT THE MINDS OF PEOPLE. NOT ALL GLOBAL EVENTS HAVE GONE FOR USA.
2. THE WHOLE OF WESTERN WORLD REPRESENTED BY USA HAS BEEN FED UP OF BEING POLITICALLY CORRECT, DESPITE BEING DEMOCRATIC AND ACCEPTING DEMOCRATISATION OF SOCIETY. FROM INSIDE THEY WANTED TO ASSERT, AND THEY DID IT.
3. THE WHOLE OF WESTERN WORLD AND USA HAS BEEN RENDERED INSECURE, BY MAJOR TERRORIST ATTACKS MASTERED AND MANIPULATED BY PEOPLE FOLLOWING ISLAMIC RELIGION. MR DONALD TRUMP WAS VERY VOCAL ASSERTIVE AND AGGRESSIVE ON THWARTING TERRORISM.
4. IN ANY CASE THE THINKING OF THE WORLD HAS BEEN SHIFTING TOWARDS RIGHTIST APPROACH, EXHIBITED BY SRI MODIJI'S WIN, BREXIT AND NOW AMERICAN ELECTIONS.

Thursday, 3 November 2016

महादेवी वर्मा की सुंदर पंक्तियाँ...

आ गए तुम?
द्वार खुला है, अंदर आओ..!
पर तनिक ठहरो..
*ड्योढी पर पड़े पायदान पर,*
*अपना अहं झाड़ आना..!*
मधुमालती लिपटी है मुंडेर से,
*अपनी नाराज़गी वहीँ उड़ेल आना..!*
तुलसी के क्यारे में,
*मन की चटकन चढ़ा आना..!*
*अपनी व्यस्ततायें,*बाहर खूंटी पर ही *टांग आना..!*
जूतों संग, *हर नकारात्मकता उतार आना..!*
बाहर किलोलते बच्चों से,
*थोड़ी शरारत माँग लाना..!*
वो गुलाब के गमले में, 
*मुस्कान लगी है..*
*तोड़ कर पहन आना..!*
लाओ, *अपनी उलझनें मुझे थमा दो..*
तुम्हारी थकान पर, *मनुहारों का पँखा झुला दूँ..!*
*देखो, शाम बिछाई है मैंने,*
*सूरज क्षितिज पर बाँधा है,*
*लाली छिड़की है नभ पर..!*
*प्रेम और विश्वास की मद्धम आंच पर,* चाय चढ़ाई है,
घूँट घूँट पीना..!
*सुनो, इतना मुश्किल भी नहीं हैं जीना..!!*

क्रोध

बुद्ध ने कहा है कि जब मैंने जाना तो मैंने पाया है कि अदभुत हैं वे लोग, जो दूसरों की भूल पर क्रोध करते हैं! क्यों? तो बुद्ध ने कहा कि अदभुत इसलिए कि भूल दूसरा करता है, दंड वह अपने को देता है। गाली मैं आपको दूं और क्रोधित आप होंगे। दंड कौन भोग रहा है? दंड आप भोग रहे हैं, गाली मैंने दी! क्रोध में जलते हम हैं, राख हम होते हैं, लेकिन ध्यान वहां नहीं होता! इसलिए धीरे-धीरे पूरी जिंदगी राख हो जाती है। और हमको भ्रम यह होता है कि हम जान गये हैं! हम जानते नहीं-- क्रोध की सिर्फ स्मृति है और क्रोध के संबंध में शास्त्रों में पढ़े हुए वचन हैं और हमारा कोई अनुभव नहीं। जब क्रोध आ जाये तो उस आदमी को धन्यवाद दें, जिसने क्रोध पैदा करवा दिया, क्योंकि उसकी कृपा, उसने आत्म-निरीक्षण का एक मौका दिया; भीतर आपको जानने का एक अवसर दिया। उसको फौरन धन्यवाद दें कि मित्र धन्यवाद, और अब मैं जाता हूं, थोड़ा इस पर ध्यान करके वापस आकर बात करूंगा। द्वार बंद कर लें और देखें कि भीतर क्रोध उठ गया है। हाथ-पैर कसते हों, कसने दें; क्योंकि हाथ-पैर कसेंगे। हो सकता है कि क्रोध में, अंधेरे में, हवा में, घूंसे चलें; चलने दें। द्वार बंद कर दें और देखें कि क्या-क्या होता है। अपनी पूरी पागल स्थिति को जानें और पागलपन को पूरा प्रकट हो जाने दें अपने सामने। तब आप पहली बार अनुभव करेंगे कि क्या है यह क्रोध। जब आप इस पागलपन की स्थिति को अनुभव करेंगे तो कांप जायेंगे भीतर से, कि यह है क्रोध। यह मैंने कई बार किया था, दूसरे लोगों ने क्या सोचा होगा! मनोवैज्ञानिक कहते हैं, क्रोध संक्षिप्त रूप में आया हुआ पागलपन है, थोड़ी देर के लिए आया हुआ पागलपन है, क्षणिक पागलपन है। क्षण भर में आदमी उसी हालत में हो गया, जिस हालत में कुछ लोग सदा के लिए हो जाते हैं। क्रोध में जलते हुए आदमी में और पागल आदमी में मौलिक अंतर नहीं है। अंतर सिर्फ लंबाई का है। पागल आदमी स्थायी पागल है, क्रोधी आदमी अस्थायी पागल है। दूसरे ने आपको क्रोध में देखा होगा, इसलिए दूसरे कहते है कि यह बेचारा कितना पागल हो गया है, यह क्या करता है? आपने कभी देखा है अपने को? अतः द्वार बंद कर लें। और अपनी पूरी हालत को देखें कि यह क्या हो रहा है। और रोकें मत, प्रकट होने दें, जो हो रहा है। और उसका पूरा निरीक्षण करें, तब आप पहली दफा परिचित होंगे, यह है क्रोध।

नेति-नेति प्रवचन 16